बूझो तो जाने! एक पैर है काली धोती, जाड़े में वह हरदम सोती! गर्मी में है छाया देती, सावन में वह हरदम रोती, दिमाग हो तो जवाब दो…

Hindi Paheli: बूझो तो जाने! एक पैर है काली धोती, जाड़े में वह हरदम सोती! गर्मी में है छाया देती, सावन में वह हरदम रोती, दिमाग हो तो जवाब दो…, एक समय था जब बच्चे अपने दादा-दादी के पास बैठकर कहानी और पहेलियाँ बुझाया करती थी। जिससे बच्चो के मस्तिष्क का व्यायाम होता था। आज भी पहेलियाँ लोगो को उलझा देती है। कुछ पहेलियाँ तो इतनी अजीब रहती है जिसका जवाब ढूंढने में दिमाग घूम जाता है। आज हम आपके लिए कुछ ऐसी ही पहेलियाँ जवाब के साथ लेकर आये है। आइये जानते है….

ये भी पढ़े-० Hindi Paheli: बूझो तो जाने! पैर नहीं पर चलती हूँ, कभी न राह बदलती हूँ, नाप-नाप कर चलती हूँ, तो भी न घर से टलती हूँ, यहाँ देखे इसका उत्तर

  • पहेली: एक पैर है काली धोती
    जाड़े में वह हरदम सोती
    गर्मी में है छाया देती
    सावन में वह हरदम रोती।
  • उत्तर : छतरी (Umbrella)
  • पहेली: चार टांग की हूँ एक नारी,
    छलनी सम मेरे छेद,
    पीड़ित को आराम मैं देती,
    बतलाओ भैया यह भेद?
  • उत्तर : खटिया (चारपाई)

ये भी पढ़े- ठण्ड के मौसम में बिना धूप के मिनटों में सुखाये गीले कपड़ें, जानिए कैसे?

  • पहेली: एक थाल मोती से भरा, सबके सिर पर औंधा धरा।
    चारों ओर वह थाली फिरे, मोती उससे एक न गिरे।।
  • उत्तर: आकाश या आसमान
  • पहेली: खाना कभी नहीं खाता वह, और ना ही पीता पानी।
    उसकी बुद्धि के आगे, हार गये बड़े-बड़े ज्ञानी।।
  • उत्तर: कंप्यूटर(Computer)
  • पहेली: पानी पीकर हवा उगलता, गरमी में आता हूँ काम।
    सर्दी में मेरा नाम न लेना, अब बतला दो मेरा नाम।।
  • उत्तर: कूलर (Cooler)

Leave a Comment