शकरकंद की खेती कर के किसान कमाएंगे दिन के हजारों रुपये, देखे कौन सी है उन्नत किस्में

हम आपको बता दे की बहुत ही अच्छा मुनफा कमा सकते है इसलीये आपको बता दे की आप शकरकंद के बारे में तो जानते ही होंगे, आप बाजारों में तो देखा ही होगा क्युकी इसकी खेती सर्दियों के मैसम में की जाती है। क्युकी ये यह आलू की तरह ही दीखता है और इसकी खेती भी ऐसे ही की जाती है। शकरकंद की खेती ओडिशा, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल व महाराष्ट्र जैसे राज्यों में बहुत अधिक मात्रा में इसकी खेती की जाती है। भारत में शकरकंद की बहुत अधिक मात्रा में पसंद किया जाता है। देश में उगने वाले इस शकरकंद का स्वाद भी बेहद लाजवाब है और आपको बता दे की भारत शकरकंद के लिए बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है।

शकरकंद की प्रमुख किस्में

हम आपको बताएंगे की इन उन्नत किस्मों से अच्छा फायदा हओ सकता है, शकरकंद की किस्में एस टी 14,पीली प्रजाति की शंकरकंद, लाल प्रजाति की शकरकंद, भू-कृष्ण, एस टी 13, सफेद प्रजाति की शकरकंद, श्री अरूण, भू सोना और सफेद प्रजाति का शकरकंद आदि इसकी प्रमुख प्रजाति है। जिसके अनुसार आप मैसम और मिट्टी की देखकर इसकी खेती कर सकते है। इसके अलावा श्री रतना, सीओ- 1, 2, श्री वर्धिनी, श्री नंदिनी, भुवन संकर, श्री वरुण, जवाहर शकरकंद- 145, वर्षा, पूसा सुहावनी, पूसा रेड, राजेंद्र शकरकंद, अशवनी और कलमेघ आदि भी शकरकंद की किस्में है।

यह भी पढ़े:- दिन के हजारो रूपये कमा कर देगा कॉर्न फ्लेक्स का बिजनेस, बना देगा मालामाल, जाने कैसे करे बिजनेस

शकरकंद की खेती की प्रोसेस

अगर हम इस खेती से मुनफे की बात करे तो आपको बहुत ही अच्छा फायदा हओ सकता है, शकरकंद की खेती आलू की खेती जैसे ही की जाती है। यह एक ही प्रजाति के सदस्य है, आलू की अपेक्षा इसमें स्टार्च और मिठास अधिक मात्रा में पाई जाती है। इसकी डिमांड मार्केट में बहुत ज्यादा होती है। इसलिए शकरकंद की खेती किसानों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है। इस खेती से वह अच्छा मुनाफा कमा सकते है। इसकी फसल रोपाई या बुवाई के 125 से 130 दिनों में ही तैयार हो जाती है। इसके पौधों पर लगी पत्तियां पीले रंग की दिखाई देती है। उसके बाद इसकी खुदाई की जाती है। लगभग 25 टन शकरकंद की पैदावार की जाती है।

यह भी पढ़े:- सेहत के लिए बेहद लाभकारी है सौंफ़ का सेवन, वजन घटाने में मददगार और त्वचा को रखे स्वस्थ, जानें सभी फायदे

शकरकंद की खेती से मुनाफा

यदि बाजार में आप इस उपज को 10-20 रुपए प्रति किलो की दर से बेचते है। तो आप दो लाख रुपय की कमाई कर सकते है। 75 हजार रुपए का खर्चा आएगा, फर भी आप इसकी खेती से सवा लाख रुपए तक का फायदा कमा सकते है।

Leave a Comment